Home SCIENCE Pita ka Gotra Putri ko kyo Nahin

Pita ka Gotra Putri ko kyo Nahin

पिता का गोत्र  पुत्री को क्यों नही मिलता जानिए की क्यों ??

यह विषय बहुत गहन अध्ययन का है इसे समझना बहुत नितांत जरुरी है खासकर हमारी युवा पीढ़ीयों को जिससे आने वाली पीढियां रोग रहित और रचनात्मक पैदा हों और इस विषय को समझने से बहुत से दूसरे विषयों पर जो हमारी सोच है परिवर्तित हो जाएगी जैसे कुछ लोग कन्या के जन्म पर सिर्फ स्त्री को जिम्मेदार मानते हैं।
तो आईए हम जाननें और समझने की कोशिश करते हैं।

विज्ञान के अनुसार स्त्री में गुणसूत्र xx होते है और पुरुष में xy होते है प्रथम इस इस बात को ध्यान में रखें ।

अब मान लेते है की इन की सन्तति में पुत्र (xy गुणसूत्र) हुआ तो इस पुत्र में y गुणसूत्र पिता से आता है यह तो निश्चित है क्यूंकि माँ में y गुणसूत्र नहीं होता है!

और यदि किसी को (xx गुणसूत्र) से पुत्री हुई तो यह गुणसूत्र पुत्री में माता व् पिता दोनों से ही आयेंगे।

1. xx गुणसूत्र:-
xx गुणसूत्र अर्थात पुत्री में, xx गुणसूत्र के जोड़े में एक x गुणसूत्र माता से तथा दूसरा x गुणसूत्र गुणसूत्र पिता से आता है और इन दोनों गुणसूत्रों का संयोग एक गांठ सी रचना बनाता है जिसे Crossover कहते है।

2. x-y गुणसूत्र* ;-

x-y गुणसूत्र अर्थात पुत्र की उत्पत्ति में y गुणसूत्र केवल पिता से ही आ सकता है क्योंकिं माता में y गुणसूत्र नही होता, और दोनों गुणसूत्रों में असमानता होने से पूर्ण Crossover नही हो पाता सिर्फ 5 % तक ही हो पाता है व y गुणसूत्र 95% ज्यों का त्यों (intact) ही रहता है।

चूकी यह निश्चित है की y गुणसूत्र पुत्र में केवल पिता से ही आया है तो पुत्र के जन्म में y गुणसूत्र महत्त्वपूर्ण हुआ।

बस गौत्र प्रणाली में इसी y गुणसूत्र पता लगाना ही एकमात्र उदेश्य है जो हमारे ऋषियों नें हजारों/लाखों वर्षों पूर्व यह जान लिया था।

*वैदिक गोत्र प्रणाली और x-y गुणसूत्र*

अब तक हम यह समझ चुके है कि वैदिक गोत्र प्रणाली y गुणसूत्र पर आधारित है अथवा y गुणसूत्र को ट्रेस करने का एक माध्यम है।

उदहारण के लिए यदि किसी व्यक्ति का गोत्र कश्यप है तो उस व्यक्ति में विद्यमान y गुणसूत्र कश्यप ऋषि से आया है या कश्यप ऋषि उस y गुणसूत्र के मूल है।

चूँकि y गुणसूत्र स्त्रियों में नही होता यही कारण है कि विवाह के पश्चात स्त्रियों को उसके पति के गोत्र से जोड़ दिया जाता है।

वैदिक/ हिन्दू संस्कृति में एक ही गोत्र में विवाह वर्जित होने का मुख्य कारण यह है कि एक ही गोत्र का होने के कारण वह पुरुष व स्त्री भाई बहिन हुए क्यूंकि उन का पूर्वज एक ही रहा है।

*परन्तु ये थोड़ी अजीब बात नही? कि जिन स्त्री व पुरुष ने एक दूसरे को कभी देखा तक नही और दोनों अलग अलग देशों में परन्तु एक ही गोत्र में जन्मे, तो वे भाई बहिन हो गये?*

इस का एक मुख्य कारण एक ही गोत्र होने के से गुणसूत्रों में समानता का भी है।

आज के आनुवंशिक विज्ञान के अनुसार यदि सामान गुणसूत्रों वाले दो व्यक्तियों में विवाह हो तो उन की सन्तति आनुवंशिक विकारों का साथ उत्पन्न होगी।

ऐसे दंपत्तियों की संतान में एक सी विचारधारा, पसंद, व्यवहार आदि में कोई नयापन नहीं होता। *ऐसे बच्चों में रचनात्मकता का अभाव होता है।* विज्ञान द्वारा भी इस संबंध में यही बात कही गई है कि सगौत्र शादी करने पर अधिकांश ऐसे दंपत्ति की संतानों में अनुवांशिक दोष अर्थात् मानसिक विकलांगता, अपंगता, गंभीर रोग आदि जन्मजात ही पाए जाते हैं।

शास्त्रों के अनुसार इन्हीं कारणों से सगौत्र विवाह पर प्रतिबंध लगाया था।

इस गोत्र का संवहन यानी उत्तराधिकार पुत्री को एक पिता प्रेषित न कर सके, इस लिये विवाह से पहले कन्यादान कराया जाता है और गोत्र मुक्त कन्या का पाणिग्रहण कर वर उस कन्या को अपने कुल गोत्र में स्थान देता है।

*हिंदुओं विशेषकर ब्राह्मणों में पाणिग्रहण के पश्चात गोत्रोच्चार के समय दोनों पक्ष के रिश्तेदार वर-वधू के सर पर चावल आदि फेंकते हुए तीन पीढ़ी के नामों सहित उन के गोत्रों का उच्चारण करते हैं और कि आज से इदं कन्या, इदं वर के गोत्र को धारण कर रही है जिसे हम सब साक्षी हो कर मान्य करते हैं।*

*इसी लिए विवाहोपरांत कन्या पति के परिवार का उपनाम धारण करती है।* यह भी एक कारण था कि हिंदुओं में विधवा विवाह स्वीकार्य नहीं था।

क्योंकि, कुल गोत्र प्रदान करने वाला पति तो मृत्यु को प्राप्त कर चुका है।

इसी लिये, कुंडली मिलान के समय वैधव्य पर खास ध्यान दिया जाता और मांगलिक कन्या होने से ज्यादा सावधानी बरती जाती है।

आत्मज़् या आत्मजा का सन्धिविच्छेद कीजिये।
आत्म+ज या आत्म+जा ।
आत्म=मैं, ज या जा =जन्मा या जन्मी हुई। यानी जो मैं ही जन्मा या जन्मी हूँ, या जो मुझसे ही जन्मा/जन्मी है।

संतान यदि पुत्र है तो 95% पिता और 5% माता का सम्मिलन है।

यदि पुत्री है तो संतान के डीएनए में 50% पिता और 50% माता का सम्मिलन है।

फिर यदि पुत्री की पुत्री हुई तो वह डीएनए 50% का 50% रह जायेगा, फिर यदि उस के भी पुत्री हुई तो उस 25% का 50% डीएनए रह जायेगा, इस तरह से *सातवीं पीढ़ी में पुत्री जन्म में यह % घटकर 1% तक रह जायेगा।* यह भी एक कारण है कि “पुत्रवान भवः” या “दूधो नहाओ, पूतो फलो” आशीर्वाद देने की प्रथा है।

इस में पुत्र प्रेम या पुत्री की उपेक्षा अथवा पुरुष प्राधन्य जैसी बात नहीं है।

अर्थात, एक पति-पत्नी का ही डीएनए सातवीं पीढ़ी तक पुनः पुनः जन्म लेता रहता है, और यही है *सात जन्मों का साथ*

लेकिन, जब पुत्र होता है तो पुत्र का गुणसूत्र पिता के गुणसूत्रों का 95% गुणों को अनुवांशिकी में ग्रहण करता है और माता का 5% (जो कि किन्हीं परिस्थितियों में 1 % से कम भी हो सकता है) डीएनए ग्रहण करता है और यही क्रम अनवरत चलता रहता है, जिस कारण पति और पत्नी के गुणों युक्त डीएनए बारम्बार जन्म लेते रहते हैं, अर्थात यह जन्म जन्मांतर का साथ हो जाता है।

इसी लिये, अपने ही अंश को पित्तर जन्म जन्मों तक आशीर्वाद देते रहते हैं और हम भी अमूर्त रूप से उन के प्रति श्रद्धा भाव रखते हुए आशीर्वाद ग्रहण करते रहते हैं, और यही सोच हमें जन्मों तक स्वार्थी होने से बचाती है, और सन्तानों की उन्नति के लिये समर्पित होने का सम्बल देती है।

एक बात और, माता पिता यदि कन्यादान करते हैं, तो इस का यह अर्थ कदापि नहीं है कि वे कन्या को कोई वस्तु के समकक्ष समझते हैं, बल्कि इस दान का विधान इस निमित्त किया गया है कि दूसरे कुल की कुलवधू बनने के लिये और उस कुल की कुल धात्री बनने के लिये, उसे पिता के गोत्र से मुक्त होना चाहिये। डीएनए मुक्त हो नहीं सकती क्योंकि भौतिक शरीर में वे डीएनए रहेंगे ही, इस लिये मायका अर्थात माता का रिश्ता बना रहता है, गोत्र यानी पिता के गोत्र का त्याग किया जाता है। तभी वह भावी वर को यह वचन दे पाती है कि उस के कुल की मर्यादा का पालन करेगी यानी उस के गोत्र और डीएनए को करप्ट नहीं करेगी, वर्णसंकर नहीं करेगी, क्योंकि कन्या विवाह के बाद कुल वंश के लिये रज् का रजदान करती है और मातृत्व को प्राप्त करती है।

यही कारण है कि हर विवाहित स्त्री माता समान पूज्यनीय हो जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Dilli ki Jeet Kiske Nam Aap ke ya Aap ke Shahin Bag ke

दिल्ली की जीत किसके नाम आप के या आप के शाहीनबाग के या हिन्दू के या मुसलमान के आखिर इस जीत और हार के...

71 Ways : How to Make Money Online From Now

We’re going to start out first with the highest ten methods to earn money on-line (with a long-term focus) and sustainable future. In the event...

How to Install WordPress : All Mathed : Complete Beginner’s Tutorial

Attempting to determine how you can set up WordPress? There are a number of totally different strategies you should utilize, every of which I’ll...

Tulsidas Ji Ki BhavishyVaniyan

तुलसीदास जी की भविष्यवाणियाँ हिन्दू धर्म के बारे में वास्तव में तुलसी दास जी ने कलियुग के प्र भाव का वर्णन किया ना की किसी...

Solar Eclipse And How It affect the Earth

सूर्य ग्रहण से पृथ्वी पर होने वाले प्रभाव पर ओशो के विचार र्य ग्रहण से पृथ्वी पर होने वाले प्रभाव पर ओशो के विचार उन्नीस सौ...

Pita ka Gotra Putri ko kyo Nahin

पिता का गोत्र  पुत्री को क्यों नही मिलता जानिए की क्यों ?? यह विषय बहुत गहन अध्ययन का है इसे समझना बहुत नितांत जरुरी है...

Videsi Akrman ya Sanya Vidroh se kaise Bache Bharat

भारत में  विदेसी आक्रमण या सैन्य विद्रोह द्वारा तख्तापलटना हो इसलिए उठाये जाने चाहिए ये महत्वपूर्ण कदम पुलिस के अलावा भारत के किसी भी सरकारी...

Bharat ke kuchh Krantikari Bramhans

आजादी की लड़ाई में सर्वस्व न्योछावर करने वाले कुछ प्रसिद्ध ब्राह्मण क्रान्तिकारियो के नाम :– भारत के क्रान्तिकारियो में नेतृत्व करने वाले अधिकांश क्रान्तिकारी ब्राह्मण...

Ajadi ki Ladai me Sangh aur Rajnit

【1818 से अब तक ना #भारतवासी एक हो पाये ना #कथित_हिन्दू। संदेह तो बनेगा ही, #गांधी समेत सभी बस #चोर_सिपाही खेलते नजर आते है】 #सावरकर , #भगत, #आजाद, #लाला_लाजपत_राय , #सुखदेव, #बटुकेश्वर , #उधम_सिंह और #सुभाष_बाबू जैसे सच्चे क्रांतिकारी...
- Advertisment -

Recent Comments